Kutta Pagal Kaise Hota Hai First 2020:कुत्ता पागल क्यों हो जाता है

49

Kutta Pagal Kaise Hota Hai:कुत्ता पागल क्यों हो जाता है?

जब मैं करीबन 8-9 वर्ष का था तब मेरे पीछे एक (Pagal Kutta) पागल कुत्ता पीछे पड़ गया था. जब मैं अपने भाई की बारात में गया था. ये समय गर्मी का था मैं अकेला जब गली से गुजर रहा था तब मेरे पीछे पागल कुत्ता पड़ गया था, मैं बहुत भागा, जब मैं थक गया तो मैंने कुत्ते का सामना किया और रोते-रोते रेट उछाल कर मैंने कुत्ते को मेरे से दूर भगाया. ये वो दौर था जो की मैं कभी नही भूल सकता. मैं बहुत डर गया था.

Kutta-Pagal-Kaise-Hota-Hai
Kutta-Pagal-Kaise-Hota-Hai

Kutta Pagal Kaise Hota Hai:कुत्ता पागल क्यों हो जाता हैं?

कुत्ता मनुष्य का एक वफादार दोस्त माना जाता है, लेकिन जब यह कुत्ता पागल हो जाता है तो इतना खतरनाक हो जाता है कि बिना उचित इलाज के इसके काटने से मृत्यु हो जाती है.

कुत्ता जब रैबीज नामक बीमारी का शिकार हो जाता है तो कुत्ता पागल हो जाता है यह बीमारी एक प्रकार के विषाणु (Virus) द्वारा होती है, रैबीज नामक बीमारी वायु से या किसी दुसरे जंगली जानवर से ये विषाणु Virus कुत्ते की त्वचा के जख्म द्वारा शरीर में प्रवेश कर जाते है.

यह विषाणु चार से छ: सप्ताह के अन्दर असर दिखाना शुरू करते है इस समय कुत्ता सुस्त रहता है फीर उसे बुखार आता है और खाने पिने में उसकी रूचि नही रहती, जब विषाणु पुरे शरीर में फैलकर मस्तिष्क पर हमला करते है तो कुत्ता उतेजित होने लगता है कुत्ते के मुंह में लार आने लगती है, लार के साथ विषाणु भी होते है कुत्ता गुर्राना और भोकना शुरू कर देता है.

इस बिच कुत्ता किसी भी व्यक्ति को काट सकता है ऐसी स्थति में कुत्ते को पागल कहा जाता है, कुत्ते में जब बीमारी के लक्षण दिखने लगते है तो वह तीन से पांच दिन में मर जाता है|

Pagal Kutta:कुत्ता पागल होने के लक्षण?

जब कोई पागल कुत्ता मनुष्य को काटता है तो कुत्ते की लार में मौजूद वायरस काटे हुए स्थान से मनुष्य के शरीर में प्रवेश कर जाते है शुरू में मानसिक कमजोरी और बेचैनी महसूस होने लगती है बाद में मांस-पेशियां शिथिल हो जाती है और निगलने (खाने) या पीने की क्रिया में उसे कष्ट होने लगता है. मनुष्य पानी से भयभीत होने लगता है इसीलिए इस बीमारी को हाइड्रोफ़ोबिया (Haydrophobia) भी कहते है.

मनुष्य में बीमारी के लक्षण एक माह से लेकर तीन माह में दिखने शुरू हो जाते है यदि कुत्ते ने गर्दन, मुंह या सिर में काटा है तो कम समय भी लग सकता है.

Pagal Kutta:पागल कुत्ता काटले तो क्या इलाज करे?

अगर कुत्ता मनुष्य को काट ले तो काटे हुए स्थान को तुरंत पानी से धोकर, तीन दिन के भीतर एंटीरैबीज के इंजेक्शन लगाने की व्यवस्था करनी चाहिए, साथ ही काटने वाले कुत्ते पर भी ध्यान रखे जिससे पता चल सके की कुत्ता पागल था या नही.

अगर कुत्ता पांच दिन में नही मरता है तो उसे पागल कुत्ता नही कहा जा सकता और अपना इलाज रोक देना चाहिए, क्योकि पागल कुत्ता पांच दिन में अवश्य ही मर जाता है.

रैबीज के विषाणु – लोमड़ी, भेड़िया, गीदड़, बिल्ली और चमगादड़ आदि पर भी होते है लेकिन इन जानवरों से रैबीज के विषाणु मनुष्य के शरीर में बहुत कम प्रवेश कर पाते है, क्योकि मनुष्य इनके अधिक संपर्क में नही आता है.

Pagal Kutta:पागल कुत्ते की पहचान कैसे करे?

  • पागल कुत्ता एक जगह पर बैठा नही रहेगा वो पुरे दिन इधर उधर भागता फिरेगा, पागल कुत्ते की जुबान बाहर की ओर निकली होती है और जुबान से लार निकलती है, कुछ कुत्ते भोंकते भोंकते दोड़ते है, पागल कुत्ता शरीर में कमजोर दिखेगा क्योकि खाना पीना उसे अच्छा नही लगता है और पांच दिन बाद पागल कुत्ता (Pagal Kutta) मर जाता है.

पागल कुत्ते के बारे में और जानने के लिए क्लिक करे – Pagal Kutta



Pagal Kutta कुत्ता पागल क्यों हो जाता हैं? आर्टिकल और हमारी मेहनत कैसी लगी अच्छी लगे तो लाइक शेयर अवश्य करे और अपने दोस्तों के साथ भी share करे जिससे हमें बहुत ख़ुशी मिलेगी, धन्यवाद

Comments